Sad Shayari Pehli Mohabbat Ka Anzaam

Sad Shayari Pehli Mohabbat Ka Anzaam
Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram

Sad Shayari In Hindi: Hello guys how are you, whenever we feel sad and want to express your sadness, 😭 So Sad Shayari is the best option to express your inner sadness on social networks. Here we are having a large collection of sad shayari😭 in hindi with images on this page. You can choose all type of Shayari according to your mood and share it where you want.

There is much reason for getting upset. quarrel with girlfriend or boyfriend And the best way to get relief of these heart burdens is by reading the Sad Shayari (poetry) and Sad SMS You can find a huge number of sad shayari in hindi with images on this page Today here we are come with a large collection of Sad Shayari with images.

Sad Shayari In Hindi: Hello guys how are you, whenever we feel sad and want to express your sadness, 😭 So Sad Shayari is the best option to express your inner sadness on social networks. Here we are having a large collection of sad shayari😭 in hindi with images on this page. You can choose all type of Shayari according to your mood and share it where you want.

There is much reason for getting upset. quarrel with girlfriend or boyfriend And the best way to get relief of these heart burdens is by reading the Sad Shayari (poetry) and Sad SMS You can find a huge number of sad shayari in hindi with images on this page Today here we are come with a large collection of Sad Shayari with images.

हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है, कभी सुबह कभी शाम याद आता है, जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत, फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है। Har Tanha Raat Mein Ek Naam Yaad Aata Hai, Kabhi Subhah To Kabhi Shaam Yaad Aata Hai, Jab Sochte Hain Kar Lein Dobara Mohabbat, Fir Pehli Mohabbat Ka Anzaam Yaad Aata Hai.

ना जिंदगी मिली ना वफा मिली, क्यों हर खुशी हमसे खफा मिली, झूठी मुस्कान लिए दर्द छुपाते रहे, सच्चे प्यार की हमे क्या सजा मिली.

कभी सोचा न था इतनी जल्दी खत्म कर दोगे रिश्ता हमसे, मिले तो यूं थे जैसे सदियों साथ निभाओगे।

ना जाने कोनसी शिकायतों का हम शिकार हो गए, जितना दिल साफ रखा उतना गुनहगार हो गए,

कहीं जीत तो कहीं हार के निशान हैं, कौन जाने, हम कितने दिन के मेहमान हैं।

“गम” ये लफ्ज़ कहने में तो कम लगता है लेकिन दोस्तों सहने में बड़ा दम लगता है।

दो ही हमसफर मिले जिंदगी में, एक सबर… तो दूसरा इम्तिहान..!!

वक्त की तरह निकल गया वो, नजदीक से भी और तकदीर से भी..!

तुम्हारी और हमारी रात में बस फर्क इतना है तुम्हारी सो के गुजरती है हमारी रो के गुजरती है।

लाख चाहूं कि तुझे याद ना करूं मगर, इरादा अपनी जगह, बेबसी अपनी जगह..!!

बहुत दर्द देती हैं तेरी यादें सो जाऊं तो जगा देती हैं जग जाऊं तो रुला देती हैं।

इश्क़ खुदकुशी का धंधा है, “अपनी ही लाश अपना ही कंधा है”

कुछ अजीब सा चल रहा है, ये वक्त का सफर… एक गहरी सी खामोशी है खुद के ही अंदर…

जिंदगी में कुछ हसीन पल यूंही गुजर जाते हैं रह जाती हैं यादें और इंसान बिछड़ जाते हैं।

कुछ गम…कुछ ठोकरें… कुछ चीखें उधार देती है… कभी कभी जिंदगी… मौत आने से पहले ही मार देती है…

कुछ ना बचा मेरे इन, दो खाली हाथों में, एक हाथ से किस्मत रूठ गई, तो दूसरे हाथ से मोहब्बत छूट गई।

कुछ ना बचा मेरे इन, दो खाली हाथों में, एक हाथ से किस्मत रूठ गई, तो दूसरे हाथ से मोहब्बत छूट गई।

जवाब लेने चले थे, सवाल ही भूल गए! अजीब है ये इश्क भी, अपना हाल भी भूल गए!!

मोहब्बत की आजतक बस दो ही बातें अधूरी रही, एक मै तुझे बता नही पाया, और दूसरी तुम समझ नही पाये..

इस तरह से लोग रूठ गए मुझसे, जैसे मुझसा बुरा दुनिया में कोई और नही।

मेरी तलाश का है जुर्म या मेरी वफ़ा का कसूर, जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।

हँसते बहुत हैं, मुस्कुराते कम हैं, रोते नही बस आँखें नम हैं, सवाल सी जिंदगी है, जवाब कोई नही, शोर तो बहुत है, पर उसकी आवाज कोई नही..!

हमेशा याद रहेगा ये दौर हमको,, क्या खूब तरसे जिंदगी में एक शख्स के लिए.!!

उसके दर पर दम तोड़ गईं तमाम ख्वाहिशें मेरी, मगर वो पूछ रहा है तेरे रोने की वजह मै तो नही।।

इस छोटे से दिल में, किस-किस को जगह दूं मैं, गम रहे…दम रहे…फरियाद रहे…या तेरी याद..!!

शायद अब लौट ना पाऊं कभी खुशियों के बाजार में, गम ने ऊंची बोली लगाकर खरीद लिया है मुझे…

जिंदगी में हिस्सा बनने की चाह थी, मगर किस्मत ने किस्सा बनाकर छोड़ दिया…!

अधूरे चांद से फरियाद तो करता होगा, वो मुझे ज्यादा नही पर याद तो करता होगा..!!

उसने दोस्ती चाही मुझे प्यार हो गया, मै अपने ही कत्ल का गुनहगार हो गया।💔

धीरे धीरे वो हमें अपनी जिंदगी से हटाते रहे, बताकर मजबूरियां हमे वो अपना दिल कहीं और लगाते रहे।

हमे तो प्यार के दो लफ्ज़ भी ना नसीब हुए, और बदनाम ऐसे हुए जैसे इश्क के बादशाह थे हम।

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on linkedin
Share on telegram
Share on twitter
Share on linkedin

Leave a Comment

Recently Posted

From Most Popular Categories

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on telegram
Share on twitter